AMP Theme क्या है: इसके फायदे और नुकसान

मित्रों, क्या आप अपनी वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाना चाहते हैं? क्या आप जानते हैं कि AMP थीम क्या होती है और इसे वेबसाइट में कैसे इंस्टॉल किया जाता है? इसके क्या फायदे और नुकसान हैं?

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इंटरनेट पर लगभग 55% से 60% सर्च मोबाइल के माध्यम से किए जाते हैं क्योंकि लगभग सभी लोग मोबाइल का उपयोग करते हैं। इस बात को देखते हुए वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली में बदलना बहुत ज़रूरी है क्योंकि गूगल भी मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट्स को ही अहमियत देता है और रैंकिंग में मदद करता है।

ए एम पी (AMP) का इतिहास और इसके लॉन्च के पीछे का कारण :

  • AMP का पूरा नाम Accelerated Mobile Pages है। इसे गूगल ने अक्टूबर 2015 में पेश किया था।
  • AMP को मोबाइल वेब पेज के परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने के लिए एक ओपन सोर्स प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया था।
  • AMP का मुख्य उद्देश्य मोबाइल डिवाइस पर पेज लोड होने का समय कम करना था।
  • उस समय की स्टडीज दिखाती थीं कि 53% मोबाइल यूज़र्स 3 सेकंड से ज्यादा लोड होने वाले पेज को छोड़ देते थे।
  • औसतन मोबाइल पर पेज लोड होने में 15 सेकंड से ज्यादा समय लगता था। इससे यूज़र अनुभव खराब हो रहा था।
  • AMP ने ऑप्टिमाइज़्ड HTML, JS और CSS का इस्तेमाल करके इस समस्या का समाधान निकाला।
  • AMP की मदद से पेज धीमी 2G कनेक्शन पर भी 1 सेकंड से कम में लोड होने लगे।
  • एक और लक्ष्य मोबाइल वेब पर विज्ञापनों के लोड होने का समय कम करना था। AMP ने विशेष ऐड टैग्स की मदद से इसे सुधारा।
  • AMP को किसी खास कंपनी की बजाय एक ओपन स्टैंडर्ड के रूप में पेश किया गया। लेकिन गूगल ने AMP को अपनाने के लिए प्रोत्साहन दिया।
  • AMP पेजेज को गूगल मोबाइल सर्च में बेहतर रैंकिंग मिली। इससे AMP को तेज़ी से अपनाया गया।

In Summary, AMP को धीमे मोबाइल वेब परफॉर्मेंस की समस्या को हल करने के लिए लॉन्च किया गया था। गूगल सर्च में बूस्ट की मदद से इसे व्यापक रूप से अपनाया गया।

AMP Theme क्या है?

AMP (Accelerated Mobile Pages) एक ओपन सोर्स फ्रेमवर्क है जो मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट्स और वेबपेजेज बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। AMP pages तेज़ी से लोड होती हैं और उपयोगकर्ताओं को स्मूथ एक्सपीरियंस प्रदान करती हैं।

AMP theme वर्डप्रेस का एक थीम होता है जो AMP सपोर्ट के साथ आता है। यह वर्डप्रेस साइट को मोबाइल-फ्रेंडली बनाने में मदद करता है। AMP theme का उपयोग करके आप अपनी वेबसाइट को गूगल मोबाइल सर्च में बेहतर रैंकिंग के लिए अनुकूलित कर सकते हैं।

AMP Theme के फायदे

  • तेज़ लोडिंग स्पीड – AMP पेजेज मामूली HTML, CSS और JS का उपयोग करके बनाई जाती हैं जो पेज लोड होने की गति को काफी बढ़ा देता है।
  • बेहतर यूज़र अनुभव – AMP पेजेज तेज़ी से लोड होने से यूज़र्स को स्मूथ एक्सपीरियंस मिलता है जिससे बाउंस रेट कम होता है।
  • मोबाइल-फ्रेंडली – AMP पेजेज रिस्पांसिव डिज़ाइन के साथ आते हैं जो मोबाइल डिवाइस पर बेहतर काम करते हैं।
  • CDN के माध्यम से कैश – AMP पेजेज Google AMP कैश सर्वर पर कैश किए जाते हैं जो पेज लोड स्पीड को और बढ़ाता है।
  • सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन – AMP पेजेज को गूगल मोबाइल सर्च में प्राथमिकता दी जाती है जिससे क्लिक-थ्रू रेट बढ़ता है।
  • एनालिटिक्स इंटिग्रेशन – AMP में गूगल एनालिटिक्स इंटीग्रेशन के लिए सपोर्ट होता है। इससे आप यूज़र डेटा आसानी से एकत्र कर सकते हैं।
  • एडस ऑप्टिमाइज़ेशन – AMP पेजेज पर Google AdSense को आसानी से इंटीग्रेट किया जा सकता है जिससे रेवेन्यू बढ़ाने में मदद मिलती है।

AMP Theme के नुकसान

  • AMP में कुछ JavaScript और CSS का समर्थन नहीं है, इसलिए कुछ कस्टम फीचर्स को इम्प्लीमेंट करना मुश्किल हो सकता है।
  • सभी प्लगइन्स का AMP में सपोर्ट नहीं होता। इसलिए प्लगइन्स के इस्तेमाल पर कुछ सीमाएं हो सकती हैं।
  • AMP के लिए अलग CSS और JS फाइलें बनानी पड़ती हैं। इससे डेवलपमेंट में अतिरिक्त काम बढ़ जाता है।
  • AMP पेज की URL कुछ अलग होती है जिससे कुछ यूज़र्स को कन्फ्यूज़न हो सकता है।
  • AMP cache सर्वर पर ट्रैफिक बढ़ने से पेज लोडिंग में देरी हो सकती है।
  • AMP वेबसाइट की SEO पर नकारात्मक असर पड़ सकता है क्योंकि कंटेंट को दोहराया जाता है।

AMP Theme को Website में कैसे Install करें

AMP Theme को इंस्टॉल करना बहुत ही आसान है। आइए चरणबद्ध तरीके से जानते हैं AMP Theme को किस तरह से इंस्टॉल और कॉन्फ़िगर किया जाता है:

Setup

सबसे पहले अपने WordPress dashboard पर जाएँ और Appearance > Themes सेक्शन में जाकर AMP Theme को सर्च करें। यहां से आपको विभिन्न AMP Themes मिल जाएंगे। अपनी पसंद का चुनकर Install बटन पर क्लिक करें।

थीम इंस्टॉल होने के बाद Activate बटन पर क्लिक करके इसे एक्टिवेट कर दें।

Settings

अब Settings > AMP सेक्शन पर जाएँ। यहां पर आपको AMP Theme की विभिन्न सेटिंग्स दिखाई देंगी।

जैसे – AMP पेज के लिए लोगो, favicon, पोस्ट टाइप को enable/disable करना, AMP पेज के लिए एनालिटिक्स कोड डालना आदि।

इन सेटिंग्स को अपनी ज़रूरत के मुताबिक कॉन्फ़िगर कर लें।

Design

अब आप AMP Theme के Design को कस्टमाइज़ कर सकते हैं। Appearance > Customize पर जाकर आप Theme के विभिन्न डिज़ाइन ऑप्शंस को चेंज कर सकते हैं जैसे कलर, फ़ॉन्ट, लेआउट आदि।

इसके अलावा Widgets और Menus को भी कस्टमाइज़ किया जा सकता है।

Extensions

अब आपकी AMP Theme तैयार है। अगर आप चाहे तो कुछ अतिरिक्त AMP Extensions को इंस्टॉल करके और फीचर्स जोड़ सकते हैं जैसे – सोशल शेयर बटन, कॉमेंटिंग सिस्टम आदि।

इसके लिए प्लगिन्स सेक्शन में जाकर AMP Extensions सर्च करें और अपनी ज़रूरत के हिसाब से इंस्टॉल करें।

Upgrade to Pro

अगर आप और एडवांस फीचर्स चाहते हैं तो कुछ AMP Themes के प्रीमियम वर्ज़न भी होते हैं जिन्हें अपग्रेड करके और फीचर्स को ऐक्सेस किया जा सकता है।

प्रीमियम वर्ज़न में आपको एडवांस कस्टमाइजेशन ऑप्शंस, प्री-बिल्ट पेज लेआउट्स, और प्लगिन सपोर्ट मिलता है।

वर्डप्रेस में AMP (Accelerated Mobile Pages) बनाने के लिए आप निम्न तरीकों से एक AMP-enabled वेबसाइट बना सकते हैं:

  1. AMP प्लगइन का उपयोग करें –
  • वर्डप्रेस डैशबोर्ड पर जाएँ और ‘AMP’ प्लगइन सर्च करें।
  • ‘AMP for WordPress’ प्लगइन इंस्टॉल और एक्टिवेट करें।
  • प्लगइन AMP वर्ज़न ऑटोमैटिक रूप से बनाएगा।
  1. AMP थीम का उपयोग करें –
  • ‘Appearance > Themes’ में जाएँ और AMP-ready थीम सर्च करें।
  • थीम इंस्टॉल और एक्टिवेट करें।
  • AMP सेटिंग्स में थीम को कॉन्फ़िगर करें।
  1. AMP for WP प्लगइन + Astra थीम का कॉम्बो उपयोग करें –
  • इस कॉम्बिनेशन से बेहतर AMP वेबसाइट बनाई जा सकती है।
  • AMP प्लगइन SEO और कॉम्पैटिबिलिटी प्रदान करेगा।
  • Astra थीम डिज़ाइन और कस्टमाइजेशन के लिए अच्छा है।

इस तरह AMP के साथ एक बेहतर वर्डप्रेस वेबसाइट बनाई जा सकती है। गूगल मोबाइल सर्च में रैंकिंग बढ़ाने के लिए AMP बहुत फायदेमंद है।

AMP और Responsive Theme में अंतर

यद्यपि दोनों ही मोबाइल-फ्रेंडली वेबसाइट बनाने के लिए उपयोग किए जाते हैं, लेकिन AMP Theme और Responsive Theme में कुछ अंतर होते हैं:

  • लोडिंग स्पीड – AMP पेजेज की लोडिंग स्पीड Responsive Theme से कही ज्यादा तेज होती है।
  • डिज़ाइन – AMP Theme में कस्टम डिज़ाइन विकल्प सीमित होते हैं जबकि Responsive Theme में अनलिमिटेड डिज़ाइनिंग की अनुमति होती है।
  • वेब विट्स – AMP में कुछ प्रमुख जावास्क्रिप्ट फ्रेमवर्क और वेब विट्स का सपोर्ट नहीं होता।
  • SEO – AMP पेज की SEO Responsive Theme के मुकाबले कमज़ोर हो सकती है।
  • गूगल सर्च – AMP पेजेज को गूगल मोबाइल सर्च में प्राथमिकता मिलती है।
  • यूज़र एक्सपीरियंस – AMP तेज़ लोडिंग की वजह से बेहतर यूज़र एक्सपीरियंस प्रदान करता है।

Google Console में AMP Pages को Setup करें

गूगल सर्च कंसोल में AMP पेजेज को सही तरीके से सेटअप करना बहुत ज़रूरी है। इसके लिए निम्न स्टेप्स फॉलो करें:

  • Google Search Console में जाएँ और अपनी वेबसाइट को ऐड करें।
  • सेटिंग्स में जाकर “AMP के लिए मोबाइल उपस्थिति” ऑप्शन को एनेबल करें।
  • अब AMP पेजेज के लिए एक XML साइटमैप बनाएँ और इसे सबमिट करें।
  • XML साइटमैप में AMP पेजेज के कैनोनिकल और AMP URL दोनों को ऐड करना ज़रूरी है।
  • AMP पेजेज के लिए गूगल एनालिटिक्स ट्रैकिंग ID जोड़ें।
  • गूगल सर्च कंसोल का इस्तेमाल करके AMP पेजेज के परफॉर्मेंस की नियमित निगरानी करें।
  • यदि कोई AMP एरर दिखाई दे तो उसे ठीक करने के लिए ट्रबलशूटिंग करें।
  • AMP कैश और Googlebot को अपनी वेबसाइट को एक्सेस करने की अनुमति दें।
  • XML Sitemap को रेग्युलर अपडेट करते रहें।


WordPress में AMP प्लगइन का उपयोग क्या है?

वर्डप्रेस में AMP (Accelerated Mobile Pages) प्लगइन का उपयोग करने के निम्नलिखित फायदे हैं:

  1. आपको मैन्युअली AMP पेजेज बनाने की ज़रूरत नहीं है। प्लगइन ऑटोमैटिक रूप से AMP वर्ज़न बना देगा।
  2. प्लगइन नई पोस्ट के लिए भी AMP पेज बनाता रहेगा। आपको मैन्युअल अपडेट करने की ज़रूरत नहीं।
  3. AMP प्लगइन कैनोनिकल URL और AMP URL का प्रबंधन खुद करता है।
  4. यह आपकी AMP पेज की वैलिडेशन और ऑप्टिमाइज़ेशन करता रहता है।
  5. Google AMP कैश सिंक के साथ इंटीग्रेशन मिलता है।
  6. प्लगइन एनालिटिक्स ट्रैकिंग पिक्सेल और Google ऐडसेंस के लिए सपोर्ट देता है।
  7. यूज़र एक्सपीरियंस में सुधार करता है क्योंकि AMP पेज तेज़ी से लोड होते हैं।

इस तरह AMP प्लगइन वर्डप्रेस AMP इंप्लीमेंटेशन को आसान बना देता है और बेहतर परफॉर्मेंस प्रदान करता है।

निष्कर्ष: AMP Theme क्या है?

AMP Theme वर्डप्रेस वेबसाइट को मोबाइल-फ्रेंडली और फास्ट लोडिंग वाली बनाने का एक बेहतरीन तरीका है। AMP थीम का उपयोग करके आप गूगल मोबाइल सर्च में अपनी रैंकिंग और क्लिक-थ्रू रेट में सुधार कर सकते हैं।

हालांकि, AMP में SEO और कस्टमाइजेशन के कुछ नुकसान भी हैं। इसलिए अपने वेबसाइट के Goals के हिसाब से फैसला करना चाहिए कि आपको AMP Theme की जरूरत है या नहीं।

FAQ: AMP Theme क्या है?

क्या Elementor का प्रयोग AMP theme में किया जा सकता है?

जी हाँ, Elementor पेज बिल्डर प्लगइन AMP थीम के साथ काम करता है। आप Elementor का उपयोग करके AMP पेज डिज़ाइन कर सकते हैं। हालाँकि कुछ एडवांस फीचर्स काम नहीं कर सकते।

क्या आपको AMP Plugin का प्रयोग करना चाहिए?

AMP Plugin का उपयोग आपको तभी करना चाहिए जब आपका थीम AMP Ready न हो। अगर आप AMP Theme इस्तेमाल कर रहे हैं तो प्लगिन की ज़रूरत नहीं है क्योंकि थीम में ही AMP सपोर्ट बिल्ट-इन होता है।

AMP URL क्या है?

AMP पेज की URL कुछ अलग होती है जिसमें आमतौर पर /amp ऐड होता है। उदाहरण –
आपकी पोस्ट का कैनोनिकल URL: yourwebsite.com/sample-post
इसी पोस्ट का AMP URL: yourwebsite.com/sample-post/amp
AMP URL का उपयोग करने से गूगल को पता चलता है कि यह AMP पेज है और इसे सर्च में प्राथमिकता देनी चाहिए।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment