जब मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री बनेंगे तो करेंगे ये 4 बड़े बदलाव, प्रशांत किशोर ने किया बड़ा दावा

प्रशांत किशोर ने कहा कि मोदी 3.0 में पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाया जा सकता है। 

प्रशांत किशोर का दावा:

इसके अलावा, मोदी सरकार राज्यों की वित्तीय स्वायत्तता पर भी अंकुश लगा सकती है।

राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर लगातार दावा कर रहे हैं कि नरेंद्र मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। 

उन्होंने अलग-अलग इंटरव्यू में कहा है कि इस बार बीजेपी 303 या उससे भी ज्यादा सीटें जीत सकती है। 

अब किशोर ने दावा किया है कि तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी चार बड़े बदलाव करेंगे।

दिए गए इंटरव्यू में प्रशांत किशोर ने कहा:

किशोर ने कहा कि मोदी 3.0 में पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधनों पर अभी 100% से ज्यादा टैक्स लगता है।

1. पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी में लाना:

इसे जीएसटी में लाने की मांग लंबे समय से हो रही है। अगर इसे जीएसटी में लाया जाता है, तो इस पर अधिकतम 28% टैक्स लगेगा। 

उन्होंने कहा कि राज्यों के पास अभी राजस्व के तीन प्रमुख स्रोत पेट्रोलियम, शराब और भूमि हैं। अगर पेट्रोलियम को जीएसटी में लाया जाता है, तो राज्यों को टैक्स का नुकसान होगा और उन्हें अपने हिस्से के लिए केंद्र पर ज्यादा निर्भर रहना होगा। 

2. राज्यों की वित्तीय स्वायत्तता पर अंकुश:

मोदी सरकार राज्यों की वित्तीय स्वायत्तता में कटौती कर सकती है और संसाधनों के वितरण में देरी कर सकती है। एफआरबीएम के नियमों को भी और कठोर बनाया जा सकता है।

किशोर ने दावा किया कि मोदी सरकार भ्रष्टाचार विरोधी नैरेटिव में भी बड़ा बदलाव कर सकती है। 

3. भ्रष्टाचार विरोधी नैरेटिव में बदलाव:

मोदी के तीसरे कार्यकाल में भारत की जियो-पॉलिटिकल मुद्दों पर मुखरता बढ़ेगी। वैश्विक स्तर पर देशों के साथ व्यवहार करते समय भारत की मुखरता बढ़ेगी।

4. जियो-पॉलिटिकल मुद्दों पर मुखरता:

प्रशांत किशोर ने मंगलवार को एक इंटरव्यू में कहा था कि केंद्र में मौजूद मोदी सरकार के खिलाफ न कोई खास असंतोष है और न ही कोई मजबूत विकल्प। उनके अनुसार, मोदी के नेतृत्व में एनडीए तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है।

10 ऐसे हरे खाद्य पदार्थ जो आपकी इम्युनिटी को करते है बूस्ट